Shree Hari Satsang Samiti

वनवासी रक्षा परिवार योजना

भारत विश्व का श्रेष्ठतम, प्राचीनतम, समृद्धतम देश रहा, इसलिये इसे सोने की चिडि़या भारत, विश्वगुरू भारत, कहते रहे, इस धर्म को सनातन धर्म, मानव धर्म, कहा जाता है। इसका कारण था – हमारे ऋषि मुनि सामाजिक जीवन में समता, समरसता निर्माण करने का प्रयत्न करते रहे। इस चिन्तन के कारण समाज में समरसता बनी, जो समाज के विकास और समृद्धि का आधार रहा। कमा कर संग्रह करनेवालों का समाज में सम्मान नहीं रहा है। जिसने कमा कर देश समाज को अर्पित किया सम्मान का अधिकारी वही।

इस श्रेष्ठ परम्परा को, जो सम्पूर्ण मानव के विकास का आधार है, आगे बढ़ाने के लिये देश में कई उपक्रम(संगठन) चल रहे हैं। उनमंे श्रेष्ठ उपक्रम “एकल अभियान” की “वनवासी रक्षा परिवार योजना” है, जिसके द्वारा नगरवासी श्रीराम का सम्बन्ध वनवासी श्रीहनुमान से स्थापित कर पंचमुखी शिक्षा के द्वारा शिक्षित, स्वस्थ, सम्पन्न, संस्कारित और संगठित वनवासी भारत का संकल्प पूरा करना है। परिणामस्वरूप, भारत पुनः विश्व गुरू बनेगा। इस दायित्वबोध से नगरीय समाज को जागृत करने के लिये आप सहभागी होकर राष्ट्र निर्माण के कार्य में तन-मन-धन से सहयोगी बनें।

वनवासी रक्षा परिवार योजना
घर-घर अलख जगाना है, वनवासियों को गले लगाना है

  • नगरीय समाज और वनवन्धुओं को समीप लाना है
  • वनवन्धुओं के उत्थान के प्रकल्पों के लिये संसाधन जुटाना
  • वनवासी क्षेत्रों में वनयात्राओं के माध्यम से पर्यटन को बढ़ावा देना
  • वनवासी संस्कृति व संस्कारों के संरक्षण व संवर्धन के प्रयासों को सहयोग और प्रेरणा देना
  • युवा वनवन्धुओं के स्वावलम्बन और सशक्तिकरण के लिये कार्य करना
  • वनवासी युवा भाई-बहनों को कथाकार के रुप में प्रशिक्षण देकर संस्कार शिक्षा को आगे बढ़ाना
  • वनवन्धुओं की धार्मिक और आध्यात्मिक आस्थाओं को बढ़ाना और धर्मान्तरण से बचाना
  • संस्कार शिक्षा के माध्यम से व्यसनों और सामाजिक बुराइयों के प्रति जागरुकता पैदा करना
  • आधुनिकता और पर्यावरण संतुलन के प्रति संवेदना जागृत करना

slogan-02 copy

वनवासी रक्षा परिवार बनिये

वार्षिक सहयोग राशि

1 गाँव 4000/-
5 गाँव 20,000/-
10 गाँव 40,000/-
25 गाँव 1,00,000/-
50 गाँव 2,00,000/-

1 उपसंच= 10 गाँव40,000/-
1 संच= 30 गाँव 1,20,000/-
1 अविकसित अंचल= 270 गाँव 10,80,000/-
1 विकसित अंचल= 480 गाँव 19,20,000/-

नोट: दान धारा आयकर अधिनियम की 80 जी के तहत छूट प्राप्त है।
Note : All donations are exempted under section 80G of Income Tax

सहयोग राशि पत्रक
कोलकाता

PDF हिंदी पत्रक / Hindi Form

PDFअंग्रेजी पत्रक / English Form

दिल्ली

PDF हिंदी पत्रक / Hindi Form

PDFअंग्रेजी पत्रक / English Form

मुंबई

PDF हिंदी पत्रक / Hindi Form

PDFअंग्रेजी पत्रक / English Form