Shree Hari Satsang Samiti

हैदराबाद समिति द्वारा हनुमान मंदिर का निर्माण

हैदराबाद समिति द्वारा हनुमान मंदिर का निर्माण

आप को बताते हुए हमें बहुत ही गर्व महसूस हो रहा है कि जिस प्रकार सूर्य उदय होने पर अपने प्रकाश के द्वारा अन्धकार को भगा देता है, उसी प्रकार श्रीहरि सत्संग समिति जिस गाँव या नगर में अपना संस्कार केंन्द्र स्थापित करती है वहाँ पर समाज में जो बुराईयाँ हंै वह दूर हो जातीं हंै। इसका एक उदाहरण:-

तेलगांना (हैदराबाद) राज्य के अदिलाबाद जिला के गुडिअत्नुर मंडल के मलकापुर ग्राम में सन् 2012 में संस्कार केंन्द्र स्थापित हुआ। उस समय ग्राम में जाति-पाति, छूआ-छूत, छोटा-बड़ा जैसी सामाजिक कुरीतियाँ चरम सीमा पर थीं। जैसे अति पिछड़े लोगांे को मंदिर में प्रवेश वर्जित व समाज से दूर रखा जाता है। उनके लिए एक विशेष गाँव का नाम होता था जिसे “गिरिजन तण्डा” कहते हंै।

श्रीहरि सत्संग समिति हैदराबाद द्वारा कार्यकर्ता बनाया गया और धीरे-धीरे अथक् प्र्र्रयासों द्वारा समाजिक कुरीतियों को दूर करने पर बल दिया गया। 22 अप्रैल 2016 (हनुमान जयंती) के शुभ अवसर पर श्रीहरि सत्संग समिति हैदराबाद के कार्यकर्ताओं द्वारा स्वावलम्बन के माध्यम से मलकापुर गाँव के गिरिजन तण्डा गाँव में संकट मोचन श्री हनुमान जी की प्रतिभा को प्राण प्रतिष्ठित किया गया। इससे यह सिद्ध “जहाँ चाह है, वहाँ राह है” संकटमोचन हनुमान जी की कृपा से अभी मलकापुर गाँव जाति-पाति, छूआ-छूत, के बंधन से मुक्त हैै। वहाँ के सरपंच श्री यादिप्पा जी ने कार्यकर्ता व श्रीहरि सत्संग समिति हैदराबाद को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर श्रीहरि सत्संग समिति आदिलाबाद की समिति के सदस्य, टी0 विजय कुमार, यादवराव, श्रीहरि, राजेन्द्र जी, इस्तारी जी, प्रहलाद, शम्भू साचे, नरेन्द्र कार्यकर्ता, रमेश ( अभियान प्रमुख) अनुसुइया, नामदेव, शिवाजी, जंगु, हनुमानलू, गोपी, एवं 700 सौ ग्रामवासी उपस्थित थे।