Site Preloader
Shree Hari Satsang Samiti

Cultural Society for Tribals
सांस्कृतिक क्रान्ति का अभियान

Explore

श्रीहरि सत्संग समिति – वनवासी रक्षा परिवार फाउंडेशन – कल्चरल सोसाइटी फॉर ट्राइबल्स

समिति का उद्देश्य वनवासियों में जन-जागृति उत्पन्न कर उन्हें स्वाभिमानी, सक्षम व आत्मनिर्भर बनाना है।

हमारे विषय में

4 लाख गाँवों में बसे वनबन्धुओं की धार्मिक अस्मिता, स्वाभिमान, स्वावलम्बन और राष्ट्रवाद की भावना को प्रबल करने के लिये समर्पित

हमारी कार्यविधि

जनजातीय क्षेत्रों में सेवा, संस्कार, शिक्षा, सुरक्षा और अपनी प्राचीन व गौरवशाली संस्कृति के प्रति स्वाभिमान जगाना

आप भी शामिल हों

आप भी संस्कार शिक्षा आंदोलन का हिस्सा बन भारत के विकास मे योगदान दें

हमारा लक्ष्य

शिक्षित भारत
संस्कारित भारत
स्वस्थ भारत
स्वावलम्बी भारत
संपन्न भारत

कथाकार योजना

श्रीहरि सत्संग समिति, सनातन भारतीय संस्कृति, धर्म, संस्कार, रीति-रिवाजों के संरक्षण, संवर्धन के साथ साथ सामाजिक समरसता, वनबन्धुओं के आरोग्य, स्वावलम्बन, अधिकारों के प्रति जागरण, विकास के साथ साथ उनकी धार्मिक आस्था और अस्मिता को अक्षुण रखने के लिये कई योजनाओं के माध्यम से लगातार कार्य करती रहती है। गाँव के युवा भाई-बहनों को संतों और कथाकारों के द्वारा प्रशिक्षण देकर उनके अपने अपने वनक्षेत्रों में हरिकथा, सत्संग, परिवारमंगल, ग्राम मंगल अनुष्ठान इत्यादि का आयोजन किया जाता है।

विस्तार से जानें

 

×

कथाकार योजना

श्रीहरि सत्संग समिति, सनातन भारतीय संस्कृति, धर्म, संस्कार, रीति-रिवाजों के संरक्षण, संवर्धन के साथ साथ सामाजिक समरसता, वनबन्धुओं के आरोग्य, स्वावलम्बन, अधिकारों के प्रति जागरण, विकास के साथ साथ उनकी धार्मिक आस्था और अस्मिता को अक्षुण रखने के लिये कई योजनाओं के माध्यम से लगातार कार्य करती रहती है। गाँव के युवा भाई-बहनों को संतों और कथाकारों के द्वारा प्रशिक्षण देकर उनके अपने अपने वनक्षेत्रों में हरिकथा, सत्संग, परिवारमंगल, ग्राम मंगल अनुष्ठान इत्यादि का आयोजन किया जाता है।

 

गाँव के युवा भाई-बहनों को संतों और कथाकारों के द्वारा प्रशिक्षण देकर उनके अपने अपने वनक्षेत्रों में हरिकथा, सत्संग, परिवारमंगल, ग्राम मंगल अनुष्ठान इत्यादि का आयोजन किया जाता है।

×

राम मंदिर रथ योजना

एक वाहन को मन्दिर के रुप में आकार देकर स्थानीय देवता का पूजन तथा वीडियों द्वारा रामायण तथा महाभारत चलचित्रों के प्रदर्शन के साथ-साथ धर्म-सभा के आयोजन द्वारा धार्मिक भाव तथा राम साधक बनने की प्रेरणा देना। वाहन की गाँव – गाँव भ्रमण करते हुए, प्रत्येक संध्या को किसी एक गाँव में चलचित्र प्रदर्शन व आरती करना एवम्  गाँव से सम्बंधित विषयों पर कार्यकर्ता द्वारा चर्चा करना ।

 

विस्तार से जानें

×

राम मंदिर रथ योजना

एक वाहन को मन्दिर के रुप में आकार देकर स्थानीय देवता का पूजन तथा वीडियों द्वारा रामायण तथा महाभारत चलचित्रों के प्रदर्शन के साथ-साथ धर्म-सभा के आयोजन द्वारा धार्मिक भाव तथा राम साधक बनने की प्रेरणा देना। वाहन की गाँव – गाँव भ्रमण करते हुए, प्रत्येक संध्या को किसी एक गाँव में चलचित्र प्रदर्शन व आरती करना एवम्  गाँव से सम्बंधित विषयों पर कार्यकर्ता द्वारा चर्चा करना ।

 

एक वाहन ट्रक को मन्दिर के रुप में आकार देकर स्थानीय देवता का पूजन तथा वीडियों द्वारा रामायण तथा महाभारत चलचित्रों के प्रदर्शन के साथ-साथ धर्म-सभा के आयोजन द्वारा धार्मिक भाव तथा राम साधक बनने व प्रेरणा देना।

×

व्यास व आचार्य कथाकार योजना

प्रशिक्षित व्यास कथाकार द्वारा  गाँवों में एक दिवसीय से एक सप्ताह की कथा का प्रवचन करना। क्षेत्र की मान्यता अनुसार शिवकथा, रामकथा व श्रीकृष्णकथा के प्रसंगों का प्रवचन। कथा के दौरान पूर्ण एकल अभियान द्वारा संचालित योजनाओं से अवगत कराना व ग्रामवासियों को स्वयं व ग्राम के विषयों के प्रति संवेदनशील करना। व्यसन मुक्ति, अरोग्य परिवार, जागृत परिवार, विकसित व स्वभिमानी परिवार बनने के लिये प्रेरित करना।

विस्तार से जानें

×

व्यास व आचार्य कथाकार योजना

प्रशिक्षित व्यास कथाकार द्वारा  गाँवों में एक दिवसीय से एक सप्ताह की कथा का प्रवचन करना। क्षेत्र की मान्यता अनुसार शिवकथा, रामकथा व श्रीकृष्णकथा के प्रसंगों का प्रवचन। कथा के दौरान पूर्ण एकल अभियान द्वारा संचालित योजनाओं से अवगत कराना व ग्रामवासियों को स्वयं व ग्राम के विषयों के प्रति संवेदनशील करना। व्यसन मुक्ति, अरोग्य परिवार, जागृत परिवार, विकसित व स्वभिमानी परिवार बनने के लिये प्रेरित करना।

 

व्यास व आचार्य कथाकारों का गाँव – गाँव में पदयात्रा द्वारा धर्म सभाओं का आयोजन करवाना तथा सामूहिक व्यसन मुक्ति का संकल्प करवाना।

×

वनवासी रक्षा परिवार

“श्रीहरि सत्संग समिति” की “वनवासी रक्षा परिवार योजना” है, जिसके द्वारा नगरवासी श्रीराम का सम्बन्ध वनवासी श्रीहनुमान से स्थापित कर पंचमुखी शिक्षा के द्वारा शिक्षित, स्वस्थ, सम्पन्न, संस्कारित और संगठित वनवासी भारत का संकल्प पूरा करना है।

विस्तार से जानें

×

वनवासी रक्षा परिवार

“श्रीहरि सत्संग समिति” की “वनवासी रक्षा परिवार योजना” है, जिसके द्वारा नगरवासी श्रीराम का सम्बन्ध वनवासी श्रीहनुमान से स्थापित कर पंचमुखी शिक्षा के द्वारा शिक्षित, स्वस्थ, सम्पन्न, संस्कारित और संगठित वनवासी भारत का संकल्प पूरा करना है।

 

घर-घर अलख जगाना है, वनवासियों को गले लगाना है

×

हमारी योजनायें

इस उद्देश्य की पूर्ति के लिये गांव में “संस्कार केन्द्रों” की स्थापना कर वहां के निवासी स्त्री, पुरूष व बच्चों को एकत्र करके सत्संग के माध्यम से उनमें अपनी संस्कृति के प्रति आदर, व्यवहार में संस्कार तथा ज्ञान का प्रसार व संगठित जीवन के लिये प्रेरित किया जा रहा है।

हमारी सहयोगी संस्थायें

संस्था के बारे में अधिक जानना चाहते हैं।